Hindi Jokes - हिंदी चुटकुले - Jokes in Hindi - Funny SMS and Jokes - Very Funny Jokes - HindiJokes.Mobi
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
एक बार pappu ट्रेन से सफर कर रहा था।
जल्दी में टिकट नहीं ले पाया और ट्रेन आ गई थी।
उसे पता नहीं क्या सूझा कि उसने प्लैटफॉर्म पर पड़ा एक पुराना टिकट उठा लिया और उसे पानी में डुबोकर जेब में आराम से रख लिया।
ट्रेन चल पड़ी और आधे घंटे बाद जब टीटी के आने की हलचल सुनाई पड़ी तो उसने टिकट निकालकर
हाथ में ले लिया।
उसने जेब से 2 पेन निकाल
कर दोनों हाथों में एक- एक पेन लेकर टिकट को पेन से
पकड़ा (हाथों से दूर रखा)।
टीटी: टिकट, टिकट दिखाओ
अपना...!!
Pappu ने वैसे ही पेन से पकड़कर टीटी को दूर से
ही टिकट दिखाने लगा।
टीटी को बड़ा अजीब लगा।
टीटी (गुस्से से): ये
क्या बेहूदा हरकत है, हाथ से क्यों नही दिखाते..??
pappu :कैसे छुएं इसे...!!
टॉयलेट में गिर गया था।
टीटी: दूर रखो इसे, न जाने कहां-कहां से आ जाते हैं....!!
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
इस बार पप्पू ने फिज़िक्स को हिला डाला!
इस सवाल पर सारे सायंटिस्ट कर चुके हैं हाथ खड़े।
सवाल: कौन-सा लिक्विड गर्म करने पर सॉलिड बन जाता है?
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
पप्पू का जवाब: बेसन के पकौड़े।
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
पप्पू और एक तोता प्लेन में अगल बगल बैठे थे।
तोते ने बटन दबाया। एयरहोस्टेज तुरंत आयी और तोते से बोली---"
येस सर। "
तोता---" यूँ ही तुम्हे छेड़ रहा था। "
एयरहोस्टेज चली गयी।
तोते ने फिर बटन दबाया। एयरहोस्टेज फिर आई।
" येस सर। "
तोता---" यूँ ही तुम्हे छेड़ रहा था। "
पप्पू ने सोचा क्यूँ ना मैं भी ये करूँ। उसने भी बटन दबाया। एयरहोस्टेज आयी---" येस सर। "
पप्पू---" यूँ ही तुम्हे छेड़ रहा था।"
एयरहोस्टेज ने पायलट से शिकायत की तो पायलट बोला---" अब अगर वे फिर से यही हरकत करें तो दोनों को प्लेन से बाहर फेंक देना। "
पप्पू ने फिर बटन दबाया और एयरहोस्टेज के आने पर फिर बोला---" यूँ ही तुम्हे छेड़ रहा था। "
एयरहोस्टेज ने दोनों को बाहर फेंक दिया।
तोता उड़ने लगा और पप्पू से बोला---" उड़ना आता है "
पप्पू ---" नहीं। "
तोता---" तो फिर क्यों छेड़ रहा था ?????
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
आजकल के बच्चे रिफ्रेश होने के लिए जहाँ वाटर पार्क,गेम सेंटर जाने की जिद करते रहते ह...... वही हम जैसे लौंडे पिता जी एक उलटे हाथ का कंटाप खा के ही फ्रेश हो जाते थे!
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
सामाजिक न्याय से उसी दिन भरोसा उठ गया था जब छोटे भाई की गलती पर दोनों भाइयों को मार पड़ती थी
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
मन में आता है के सब कुछ छोड़ कर सन्यासी हो जाऊ ...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
फिर उस लड़की का ख़याल आ जाता ह जो मुझे पति रूप में पाने के लिए 16 सोमवार का व्रत कर रही होगी
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
माँ - बेटा दो दिन हो गये है नहा ले ।
मै - आज नही नहाउंगा माँ ।
माँ -क्यूं बेटा ??
में - माय बाॅडी माय च्वायस ।
...............
तडातड थप्पड़ , जूते ,चप्पल ,बेलन ......
सबकी माँ दीपिका की माँ जैसी क्यूं नही होती
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
वो आंटीया भी गजब की होती है जो पूरे 7-8 घंटें बैठकर मौहल्ले वालों को चुगली करती हैं और बाद में ये कहकर उठ जाती है के "जाने भी दो हमें क्या"....