Festival SMS > JANMASATMI SMS - HindiJokes.Mobi
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 3 days ago

टीचर: तुम पढ़ने में ध्यान क्यों नहीं देते हो?
स्टूडेंट : क्योंकि पढाई सिर्फ दो वजहों से की जाती है…..
पहला कारण :डर से
दूसरा कारण : शौख़ से
और,बिना वजह के शौख हम रखते नहीं और डरते तो किसी के बाप से नहीं।
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 3 days ago

प्राइवेट जॉब करते बीमार पति से उसकी बीवी बोली: इस बार किसी जानवर के डाक्टर को दिखाओ। तभी आप ठीक होगे।

पति ने पूछा: वो क्यों?

बीवी:
1) रोज सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो|
2) घोडे की तरह भाग कर duty चले जाते हो।
3) गधे की तरह दिन भर काम करते हो।
4) लोमडी की तरह इधर उधर से इनफोरमेशन बटोरते हो।
5) बंदर की तरह सीनियर अधिकारियों के इशारों पर नाचते हो।
6) घर आ कर परिवार पर कुत्ते की तरह चिल्लाते हो।
7) और फिर भैंस की तरह खा कर सो जाते हो।

इंसानों का डाक्टर तुम्हें क्या खाक ठीक कर पायेगा?
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 3 days ago
टीचर : बच्चो, वादा करो कि कभी शराब, सिगरेट नहीं पिओगे।✊

बच्चे : नहीं पीएंगे।

टीचर : कभी लड़कियों का पीछा नहीं करोगे!
बच्चे : नहीं करेंगे।

टीचर : लड़कियों से दोस्ती नहीं करोगे!
बच्चे : नहीं करेंगे।

टीचर : वतन के लिए जान दे दोगे!
बच्चे : दे देंगे, ऐसी जिन्दगी का करेंगे भी क्या..
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 5 days ago

रावण साधु बनके सीता की झोपडी के पास जाता है।
रावण: भिक्षां देही।
सीता (दूर से ही): Paytm On कर।
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 5 days ago

वो छत पर चढे
पतंग उड़ाने के बहाने

बाजु वाली भी आई
कपड़े सुखाने के बहाने

बीवी ने देखा ये हसीन नजारा
वो डंडा ले आई, बन्दर भगाने के बहाने ।
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 5 days ago
फोन किसी का भी बजे मतलब किसी का भी लेकिन अपनी जेब से फोन निकाल के देखना भारत में रिवाज़ है।
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 6 days ago
कहा जा रहा है कि समकालीन भारतीय सिनेमा के निदेशक अनुराग कश्यप Fast & Furious के हिंदी Version में यह निर्णय लिया गया कि गोरखपुर से पांच बार सांसद योगी आदित्यनाथ, विन डीजल की भूमिका डोमिनिक "डोम" टोरेटो का किरदार निभाएंगे।

सूत्रों का कहना है योगी जी तहे दिल से भूमिका निभाने के लिए स्वीकार कर लिया है और आगामी शूटिंग के बारे में काफी उत्साहित है।

Note : यह एक मज़ाक (JOKE) है।
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 7 days ago

ख़ाली नही रहा कभी आँखों का ये मकान;
सब अश्क़ बाहर गये तो उदासी ठहर गई!