Love Shayri SMS - HindiJokes.Mobi
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 6 months ago

ख़ाली नही रहा कभी आँखों का ये मकान;
सब अश्क़ बाहर गये तो उदासी ठहर गई!
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 6 months ago
दिल का बुरा नहीं हूँ;
बस लफ्जों मे थोड़ी शरारत लिए फिरता हूँ!
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 6 months ago

ख़ाली नही रहा कभी आँखों का ये मकान;
सब अश्क़ बाहर गये तो उदासी ठहर गई!
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 6 months ago
दिल का बुरा नहीं हूँ;
बस लफ्जों मे थोड़ी शरारत लिए फिरता हूँ!
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 7 months ago
हक़ीक़त हो तुम कैसे तुझे सपना कहूँ;
तेरे हर दर्द को मैं अपना कहूँ;
सब कुछ क़ुर्बान है मेरे यार पर;
कौन है तेरे सिवा जिसे मैं अपना कहूँ!
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 7 months ago
मेरी पलकों की नमी इस बात की गवाह है;
मुझे आज भी तुमसे मोहब्बत बेपनाह है!
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 7 months ago

तन्हाई की यह कुछ ऐसी अजब रात है;
तुझसे जुडी हुई हर याद मेरे साथ है;
तड़प रहा है तनहा चाँद बिना चांदनी के;
इस अंधेरी रात में आज कुछ और बात है!
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 7 months ago

लाख समझाया उसे ना मिला करो गैरों से;
वो हस कर कहने लगे तुम भी तो पहले गैर थे!