Jokes > Funny Jokes - HindiJokes.Mobi
Himaŋshʋ Gʋpta: 3 years ago

संता बालकनी में खड़ा मस्ती में गा रहा था,"पंछी बनूं, उड़ता फिरूं मस्त गगन में, आज मैं आज़ाद हूँ दुनिया के चमन में"।

तभी रसोई में से जीतो की आवाज आई, "घर में ही उड़ो, सामने वाली मायके गई है।"
Himaŋshʋ Gʋpta: 3 years ago

ठान लिया था मैंने कि अब बस दारू बंद लेकिन घर जा कर देखा तो...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
एक शादी का कार्ड और आया हुआ था।
Himaŋshʋ Gʋpta: 3 years ago

टीचर: तुम्हारा रिजल्ट बहुत ख़राब आया है, कल पापा को साथ लेकर आना वरना...
पप्पू: वरना क्या?
टीचर: वरना रिजल्ट फेसबुक पर अपलोड करके उसमें पापा को टैग कर दूँगी।
पप्पू: अच्छा तो मैं भी मम्मी को बता दूँगा कि मेरी मैडम पापा की Friend List में है।
Himaŋshʋ Gʋpta: 3 years ago
आज का ज्ञान:
बारात में गया हुआ झंडू से झंडू बाराती भी यही सोचता है कि...
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
वधुपक्ष की तमाम सुन्दर लड़कियाँ उसे ही ताड़ रही हैं।
Himaŋshʋ Gʋpta: 3 years ago

भारत के 'रायचंद'!
भारत एक अत्यंत राय बांटू प्रवत्ति का देश है। यहाँ प्राय: चार किस्म के 'रायचंद' पाए जाते हैं।

1. लघु ज्ञानचंद - अकर्मण्य एवं निक्कमे लोग देश चलाने पर ज्ञान की गंगा बहाते नजर आते हैं। हालांकि वे स्वयं के काम में निम्न कोटि की उत्पादकता प्रेषित करते हैं। इन्हें बस बहस का मुद्दा दीजिए और कमाल देखिए।

2. मध्यम ज्ञानचंद- वह लोग जो पचास हजार रुपए महीना तक कमाते हैं। प्राय: दाल, टमाटर, प्याज के भाव पर चिंतन के बहाने ज्ञान बांटा करते हैं। ऐसे लोग ज्यादातर मॉल में Window Shopping करते एवं McDonald पर बर्गर खाते पाए जाते हैं। महंगाई को ताख में रख कर Multiplex में 180 के टिकट पर फिल्म देखना पसंद करते हैं। जहाँ कहीं भी सेल लगी हो वहाँ इनका जमघट देखा जा सकता है।

3. उत्तम ज्ञानचंद - ऐसे लोग जो लाखों में खेलते हैं, प्राय: किसानों की मृत्युदर, भ्रष्टाचार, उद्योग जगत और अर्थव्यवस्था पर ज्ञान पेलते पाए जाते हैं। तुलनात्मक विश्लेषण में पारंगत ऐसे लोग पानी सिर्फ Bisleri का पीते हैं, कपड़े ब्रांडेड पहनते हैं और जनसंख्या एवं गंदगी पर सरकार से क्षुब्ध नजर आना इनका विशेष शौक है। गाड़ी का शीशा नीचे करके टिशु पेपर/ सोडा बॉटल फेंकने में विशेष महारत हासिल यह लोग स्वच्छ भारत अभियान को कोसना नहीं भूलते।

4. अत्यंत ज्ञानचंद - वह लोग जो करोड़ों अरबों में खेलते हैं प्राय: सहिष्णुता-असहिष्णुता, सांप्रदायिकता एवं धर्म-निरपेक्षता जैसे भारी भरकम शब्दों पर मीडिया के सामने ज्ञान वितरण का मौका ढूंढते हैं और अवसर प्राप्त होते ही विशेष ज्ञान का उत्सर्जन कर समस्त छोटे ज्ञानचंदों को भौंचक्का कर देते हैं। ऐसे लोगों की एक टाँग हमेशा विदेश में रहती है और स्विस बैंक से विशेष प्रेम। नैतिकता का उपदेश देना इनका फेवरेट पास टाइम है और देश को अपमानित करना इनकी महानता का मापदंड। पेज थ्री की पार्टियां अटेंड करना और ट्वीट करना इनका विशेष शौक है। अनैतिकता का कचरा इनके कारपेट के नीचे हमेशा दबा मिलता है।
Himaŋshʋ Gʋpta: 3 years ago

बादशाह का प्यार!
एक बार एक बादशाह को एक लड़की पसंद आ गयी। उस लड़की का बाप सुनार था, बादशाह ने सुनार को दरबार में आने के लिए बुलावा भेजा।

चार दिन गुजरने के बाद भी सुनार बादशाह के दरबार में नहीं आया तो बादशाह ने सुनार को गिरफ्तार करने के लिए अपने सिपाही भेज दिए।

जब सिपाही सुनार के घर पहुंचे तो घर को ताला लगा हुआ था। बादशाह ने सिपाहियों को हुक्म दिया कि सुनार को ढूँढो।

सिपाहियों ने सुनार को हर जगह ढूँढा, लेकिन वो उनको कहीं नहीं मिला, फिर उन्होंने एक तरकीब निकाली और ऐलान किया कि जो भी सुनार को ढूँढने में मदद करेगा उसे एक किलो सोना दिया जाएगा, फिर भी सुनार नहीं मिला।

फिर ऐलान किया गया कि जो भी सुनार को छुपने में मदद करेगा उसे फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा, फिर भी सुनार नहीं मिला, और सिपाहियों का सुनार को ढूँढने में सारा वक़्त ऐसे ही बर्बाद हुआ जैसे आप का इस को पढने में हुआ.... जिस का कोई मतलब नहीं है।

हँसना मत, गुस्सा भी मत करना मेरे साथ भी ऐसे ही हुआ था। आप भी किसी और के साथ ऐसा करके बदला ले सकते हैं।
Himaŋshʋ Gʋpta: 3 years ago

टूट गया भरोसा!
एक बार एक आदमी बड़ी आराम से अपनी गाड़ी में जा रहा था कि अचानक सामने से आ रही एक महिला की गाड़ी आ कर उसकी गाड़ी से टकरा गयी, पर एक्सिडेंट के बाद दोनों सुरक्षित बच गए।

जब दोनों गाड़ी से बाहर आये तो महिला ने पहले अपनी गाड़ी को देखा जो पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकी थी, फिर वो सामने की तरफ गयी जहाँ आदमी भी अपनी गाड़ी को बड़ी गौर से देख रहा था।

तभी वह महिला उससे रूबरू होते हुए बोली, "देखिये कैसा संयोग है कि गाड़ियाँ पूरी तरह से टूट-फूट गयी पर हमें चोट तक नहीं आई। यह सब भगवान की मर्जी से हुआ है ताकि हम दोनों मिल सकें। मुझे लगता है कि अब हमें आपस में दोस्ती कर लेनी चाहिए।

आदमी ने भी सोचा कि इतना नुक्सान होने के बाद भी गुस्सा करने के बजाय दोस्ती के लिए कह रही है तो कर लेता हूँ और बोला, "आप बिल्कुल ठीक कह रही हैं कि ये सब भगवान की मर्जी से हुआ है।"

तभी महिला ने कहा, "एक चमत्कार और देखिये कि पूरी गाड़ी टूट-फूट गयी पर अंदर रखी शराब की बोतल बिल्कुल सही है।"

आदमी ने कहा, "वाकई यह तो हैरान करने वाली बात है।" महिला ने बोतल खोली और बोली, "आज हमारी जान बची है, हमारी दोस्ती हुई है तो क्यों न थोड़ी सी ख़ुशी मनाई जाए।"

महिला ने बोतल को उस आदमी की तरफ बढ़ाया उसने भी बोतल को पकड़ा और मुहं से लगाया और आधी करके बोतल वापस महिला को दे दी। फिर कहने लगा, "आप भी लीजिये।"

महिला ने बोतल को पकड़ा उसका ढक्कन बंद किया और एक तरफ रख दी।

आदमी ने पूछा, "क्या आप शराब नहीं पियेंगी?" महिला बड़े आराम से बोली, "नहीं ...मुझे लगता है मुझे पुलिस का इंतज़ार करना चाहिए ताकि मैं बता सकूँ कि इस शराबी ने मेरी गाडी ठोक दी है।"

मरो और करो लड़कियों पर भरोसा !!
Himaŋshʋ Gʋpta: 3 years ago
धूप में लेंस लेकर कागज़ जलाने वाला नासा का वैज्ञानिक माना जाता था।

जिस लड़के को माउथ ऑर्गन बजाना आता था वो रॉकस्टार माना जाता था।

प्लास्टिक की डिस्पोजल में गोबर भर के उस में तार और छोटी बल्ब लगा के लाइट पैदा करने वाले एडिसन कहलाते थे।

कुछ लड़के कालर चढाकर और हाथ मेँ रूमाल लपेट कर डॉन बना करते थे।

प्लास्टिक की बन्दूक को चलाने के बाद जेम्स बांड वाली फिलिंग बडी ही जोरदार हुआ करती थी।

जो लड़का अगरबत्ती वाली थैली में पानी भर के आग में रख देता था और थैली नहीं जलती थी उसे किसी वैज्ञानिक से कम नहीं समझा जाता था और गांव के बूढ़े तो उसे जादूगर ही घोषित कर देते थे।

एक हाथ से गिरती चड्डी पकड़े दूसरे से साइकिल के टायर को गली में साइकिल से भी तेज घुमाते हुए दौड़ना भी मैराथन वाली फील देता था और अगले ही मोड़ पर पापा से सामना होते ही चड्डी और टायर दोनों जमीन पर मिलते थे और हाथ दोनों गालों पर।