Jokes > Funny Jokes - HindiJokes.Mobi
Himaŋshʋ Gʋpta: 2 years ago

यदि काम के हिसाब से भारतीयो के नाम रखे
जाये
तो 90% भारतीयो का नाम होगा
रायचंद
और...
बाकि बचे 10% के नाम हुकुम चंद
Himaŋshʋ Gʋpta: 2 years ago

इस स्मार्ट फोन और ट्वीटर की गुलामी का
आलम ना पूछो दोस्तों
.
सर उठा के देखा तो जहाँ सड़क थी
वहाँ फ्लाईओवर बन चूका था !!
Himaŋshʋ Gʋpta: 2 years ago
आज का फालतू ज्ञान

जिंदगी अगर अपने हिसाब से जीनी है तो कभी किसी के फैन मत बनो

Himaŋshʋ Gʋpta: 2 years ago
By and large year 2015 passed peacefully,

but three questions left unanswered.

1.Why Katappa killed Bahubali ?

2. Who was driving Salman's car ?

3.How many husbands Indrani have ?
Himaŋshʋ Gʋpta: 2 years ago
असली बदला तो गब्बर ने लिया था ठाकुर से...


उसकी बीवी पहले मार दी




और बाद में हाथ भी काट दिए ।
Shivendra Agnihotri: 2 years ago
Friend1: वाह यार मस्त हेल्थ आ गयी तेरी , क्या देशी घी खा रहा या प्रोटीन पाउडर !?

Friend2: स्वेटर पहना हूं बे कमीज के अंदर !!
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
एक फंक्शन चल रहा था ।
.
आयोजक ने देखा कि इन्विटेशन से ज़्यादा
लोग आये हैं ।
.
वो स्टेज पे गया और बोला:-
.
"जो जो लड़की वालों की तरफ से वो
इधर एक साइड में आ जायें"
20-30 आ गए एक तरफ .....
.
फिर उसने बोला :- जो लड़के वालों की
तरफ से है वो भी उधर आ जायें..."
30-35 लोग फिर आ गए.....
.
.
अब उसने एक डंडा ले के उन
सबको (लड़की वाले एवम् लड़के वाले को )
पीटना शुरू कर दिया ।
वो चिल्लाए :- "मार क्यों रहे हो ?"
आयोजक बोला :- "कमीनों ये गुप्ताजी की
रिटायरमेंट पार्टी है...!!"
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
जापान की एक साबुन की
फैक्ट्री में एक
बार गलती से साबुन के पैकेट में साबुन
नहीं डाला जा सका
और
वो खाली पैकेट ही मार्किट
में पहुँच गया
जिसे कंपनी को मुआवजा अदा करके ग्राहक
से वापस लेना पड़ा...
ऐसी गलती दुबारा न हो इसलिए
कंपनी में
60,00,000 रुपये खर्च करके एक्सरे
और
स्कैन करने की मशीन लगवाई
ताकि हर साबुन के पैकेट की जाँच हो सके
की उसमे साबुन की टिकिया है या
ख़ाली
है...
यही गलती एक बार हिंदुस्तान
की एक
साबुन फैक्ट्री में भी हो
गयी...
दुबारा ऐसी गलती न हो इसलिए
फैक्ट्री के मालिक ने पैकिंग लाइन के आखिर में
एक बड़ा सा 6000 रु का पंखा लगा दिया
जिससे पैकेट खाली होने पर उड़ जाता और
भरा होने पर आगे फाइनल पैकिंग को चला
जाता...
साला हिंदुस्तानी जुगाड़मेन्ट के आगे अच्छे
अच्छे देशों की टेक्नोलॉजी फेल है.